Banking System Lesson Plan In Hindi : बैंकिंग सिस्टम पर लेसन प्लान

0
33

Banking System Lesson Plan In Hindi : बैंकिंग सिस्टम पर लेसन प्लान 

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप, आशा है आप अच्छे होंगे दोस्तों अगर आपने Economics का Micro Lesson Plan On Bank बनाना चाहते हैं | तो आप हमारी वेबसाइट Bedlessonplan.Com पर विजिट कर सकते है क्योंकि अभी तक हम आपके साथ हर सब्जेक्ट के Lesson Plan शेयर कर चुके हैं | हम आपके साथ का इंपॉर्टेंट Lesson Plan Bank शेयर कर रहे हैं दोस्तों हमारी वेबसाइट B.Ed, Deled और सभी Teachers Traning course Avilable हैं तो आप सही जगह आए हैं यहां आपको विभिन्न Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan दे रहे है| वे student Bank का Lesson Plan In Hindi में बना सकते है| जो आपके लिए बहुत useful है| 

बैंकिंग एक ऐसा उद्योग है जो नकद, क्रेडिट और अन्य वित्तीय लेनदेन को संभालता है। बैंक अतिरिक्त नकदी और क्रेडिट स्टोर करने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान करते हैं। वे बचत खाते, जमा प्रमाणपत्र और खातों की जाँच की पेशकश करते हैं। बैंक इन जमाओं का उपयोग ऋण बनाने के लिए करते हैं। इन ऋणों में गृह बंधक, व्यवसाय ऋण और कार ऋण शामिल हैं।

बैंकिंग अमेरिकी अर्थव्यवस्था के प्रमुख चालकों में से एक है। यह भविष्य में निवेश करने के लिए परिवारों और व्यवसायों के लिए आवश्यक तरलता प्रदान करता है। बैंक ऋण और क्रेडिट का मतलब है कि परिवारों को कॉलेज जाने या घर खरीदने से पहले बचत करने की ज़रूरत नहीं है। कंपनियां भविष्य की मांग और विस्तार के निर्माण के लिए तुरंत भर्ती शुरू करने के लिए ऋण का उपयोग करती हैं।

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : Banking ( बैंकिंग )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग
Date :  Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name : Pupil Teacher’s Roll Number :
Class : Average Age Of the Pupils :
Subject : Topic :

 

विषय वस्तु विश्लेषण

  • बैंकिंग का अर्थ व परिभाषा
  • बैंकिंग के कार्य

 सामान्य उद्देश्य  –

  • छात्रों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की बैंक के प्रति रुचि जागृत करना |
  • विद्यार्थियों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  • विद्यार्थियों को बैंक की सेवा से परिचित करवाना |

 विशिष्ट उद्देश्य –

 ज्ञानात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंकिंग व्यवस्था का ज्ञान करवाना |

बोधात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंक की व्यवस्था के कार्यों का बोध कराना |

 कौशलात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थी तर्क करना सीख जाते हैं |
  • विद्यार्थी बैंकिंग का मूल्यांकन करने का कौशल प्राप्त कर लेते हैं |

 प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंक की व्यवस्था के कार्यों को प्रयोगात्मक ढंग से बताना

 अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमें बैंकिंग का वर्गीकरण बताया गया हो |
  • पूर्व ज्ञान छात्रों को बैंक की व्यवस्था के बारे में पता होगा |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये छात्र क्रियाये
क्या आप जानते हैं बैंक क्या है ? वह स्थान जहां पैसे का लेनदेन किया जाता है |
क्या आप जानते हैं कि बैंक के मुख्य कार्य क्या है ? जमा करना, ऋण देना |

 

 उद्घोषणा    आज हम बैंक के बारे में विस्तार से जानेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण छात्र अध्यापक क्रियाएं छात्र क्रियाएं श्यामपट्ट
परिभाषा बैंकिंग कंपनी वह है जो बैंकिंग का कार्य करती है | बैंकिंग से अभिप्राय उधार देना अथवा निवेश के उद्देश्य से जमा रूप में जनता से मुद्रा शिकार करना और इनका भुगतान मांगने पर चेक ड्राफ्ट आदेश या अन्य किसी प्रकार के भुगतान करना |  

 

 
  प्रश्न – क्या आप जानते हैं कि बैंक के मुख्य  कार्य क्या है ? 1.       जमा स्वीकार करना

2.       ऋण देना

 
जमा स्वीकार करना एक बैंक जनता के धन को जमा करता है लोग अपनी सुविधा और शक्ति के अनुसार निम्न खातों में रुपया जमा कर सकते हैं |
  निश्चित कालीन या सावधि जमा खाता इस खाते में एक निश्चित अवधि के लिए कृपया जमा किया जाता है | जमा करता को जमा की रसीद दे दी जाती है इसमें जमा करता का नाम ब्याज की दर तथा जमा की अवधि लिखी होती है |

 

चालू जमा खाता –  इस खाते में जमा करता जितनी बार चाहे रुपया जमा कर सकता है और कभी भी आवश्यकता अनुसार निकाल सकता है | इस खाते में साधारणतया व्यापारी वर्ग रुपया जमा करवाता है |

 

बचत जमा खाता – यह खाता  छोटी छोटी बचत को प्रोत्साहन देने के लिए किया जाता है | इस खाते में एक निश्चित मात्रा तक रुपया निकल सकते है | निश्चित मात्रा से अधिक रुपए निकलवाने पर बैंक को सूचित किया जाता है |

होमसेफ बचत खाता बैंकों ने इस खाते का प्रचलन अभी हाल में ही किया है इसमें जमा करता के घर पर एक गुल्लक प्रदान करता है जिसकी चाबी बैंक के पास होती है |

 

आवर्ती जमा खाता – इस प्रकार के खाते में जमा करता एक निश्चित समय जैसे – 12, 24, 36 या 60 महीनों के लिए प्रतिमास निश्चित रकम जमा करवाता है | यह रकम कुछ विशेष परिस्थितियों के अलावा साधारणतया निर्धारित समय से पहले नहीं निकाली जा सकती |

   
प्रश्न  जमा कितने प्रकार की होती है ·         सावधि जमा खाता

·         चालू खाता

·         बचत जमा खाता

·         होमेसेफ बचत जमा खाता

·         आवृत्ति जमा खाता

ऋण देना  बैंक का दूसरा मुख्य कार्य लोगों को रुपया उधार देना है | बैंक के पास जो रुपया जमा के रूप में आता है| उसमें से एक निश्चित राशि नकद कोष में रखकर बाकी रुपया बैंक द्वारा उधार दे दिया जाता है | यह बैंक पराया उत्पादक कार्यों के लिए देते हैं तथा उचित जमानत की मांग करते हैं |

ऋण निम्न प्रकार के होते हैं |

 

नकद साख –  इसके अंतर्गत पीढ़ी को एक निश्चित राशि निकलवाने का अधिकार दे दिया जाता है| इस सीमा के अंदर ही ऋणी पैसा निकलवाता है और जमा भी करवाता है | इसमें केवल वास्तव में निकलवाई गई राशि पर ब्याज लगता है |

   

 

मूल्यांकन

निम्नलिखित में से सही पर निशान लगाएं –

  • व्यापारिक बैंक के कार्य हैं –
  1. जमाए स्वीकार करना
  2. लाकर सुविधाएं देना
  3. ए और बी
  4. इनमें से कोई नहीं

 

बैंक एक संस्था है –

  • जो मुद्रा का व्यापार करती है |
  • शेयर तथा परिसंपत्तियों का व्यापार करती है |
  • वस्तुओं का निर्माण करती है |
  • ना केवल मुद्रा का व्यापार करती है बल्कि मुद्रा का निर्माण भी करती है |

 गृह कार्य

  • व्यापारिक बैंक किसे कहते हैं ?
  • व्यापारिक बैंक के मुख्य कार्यों का विस्तार पूर्वक वर्णन करो ?
  • जमा स्वीकार करना तथा ऋण देने के मुख्य कार्य क्या है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here