Vano Ke Prakar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : वनों के प्रकार पाठ योजना

0
83

Vano Ke Prakar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : वनों के प्रकार पाठ योजना

Friends, आज हम आपके लिए Social Study SST Lesson Plan Series लेकर आये हैं , जिसमें आज हम आपको Vano Ke Prakar Lesson Plan (वनों के प्रकार पाठ योजना) देने वाले हैं | Class 6th/7th/8th/9th/10th के लिए Vano Ke Prakar Ke Sadhan Lesson Plan को Search कर रहे B.Ed D.El.Ed Students के लिए आज का हमारा Article काफी मददगार साबित होगा |

  • Class : 6th 7th 8th Class
  • Subject : Social Science (सामजिक अध्ययन)
  • Skill : Reinforcement Skills
  • Topic : Vano Ke Prakar Lesson Plan (वनों के प्रकार पाठ योजना)
  • Type : Mega Lesson Plan In Hindi

Vano Ke Prakar Ke Sadhan Lesson Plan

Date :  Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name : Pupil Teacher’s Roll Number :
Class : Average Age Of the Pupils :
Subject : Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

सामान्य उद्देश्य

  1. शिक्षार्थियों में सामाजिक अध्ययन की आदतों व कौशलों का विकास करना|
  2. शिक्षार्थियों में समस्या समाधान योग्यता का विकास करना |
  3. शिक्षार्थियों में प्रकृति संबंधी कौशल को बढ़ाना|
  4. शिक्षार्थियों में वनों के प्रकार अथवा वनस्पतियों संबंधी जानकारी देना|
  5. शिक्षार्थियों में वन के महत्व संबंधी जागरूकता ज्ञान लाना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य

  1. पाठ अध्ययन के बाद छात्रों से अपेक्षा की जाती है कि वे विभिन्न प्रकार के वनों की सूची बना सकेंगे|
  2. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों को परिभाषित कर सके |
  3. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों का वर्गीकरण कर सके |
  4. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों में अंतर स्पष्ट कर सकेंगे |

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री – चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि

अनुदेशनात्मक सामग्री  – वनों के प्रकार चार्ट |

पूर्व ज्ञान परिकल्पना – छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है कि विद्यार्थियों को वनों के प्रकार के बारे में सामान्य जानकारी होगी |

पूर्व ज्ञान परीक्षण – छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी |

छात्र अध्यापिका क्रियाएं छात्र क्रियाएं
आप किस चीज पर बैठे हैं ? बेंच पर
किस चीज का बना है ? लकड़ी का
लकड़ी कहां से प्राप्त होती है ? वनों से
वन कितने प्रकार के होते हैं ? समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर  ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी कि अच्छा बच्चों आज हम वनों के प्रकार के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण – छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु छात्र अध्यापिका क्रियाएं छात्र क्रियाएं चॉक बोर्ड कार्य
वनों का महत्व वन किसी भी देश की प्रगति की ओर से दिए गए उपहार होते हैं| किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में वनों का महत्वपूर्ण योगदान होता है| दूसरा वन हमारे लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं| यह विभिन्न कार्य करते हैं |पेड़  पौधे ऑक्सीजन छोड़ते हैं इसे हमें सांस के रूप में लेते हैं वह हमारे सांसो से निकली कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण करते हैं फिर पदों की जड़ें मृदा को बांधे रखती हैं इस प्रकार वृक्ष मृदा अपरदन को रोकते हैं | छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है| वनों का महत्ववन किसी भी देश की प्रगति की ओर से दिए गए उपहार होते हैं|
 वनों के भारत में मुख्य पांच प्रकार के वन पाए जाते हैं|  

 

सदाबहार वन  सदाबहार वन भारत में उन भागों में पाए जाते हैं जहां 40 इंच से अधिक वर्षा होती है यह वन  पश्चिमी घाट, हिमालय के क्षेत्रो में पाए जाते हैं भारत में मानसून द्वारा प्रमुख रूप से वर्षा होती है| बच्चे ध्यानपूर्वक सुन व लिख रहे है| सदाबहार वन
पर्वतीय  वन  हिमालय पर्वत के पूर्वी तथा पश्चिमी भागों में पाए जाने वाले वनों को पर्वतीय वन कहा जाता है| इन वनों की लकड़ी बहुत मूल्यवान होती है 1500 मीटर से 2500 मीटर के बीच शंख्वाकर पेड़ पाए जाते हैं, इन्हें शंकुधारी वन कहते हैं| इन वनों के महत्वपूर्ण वृक्ष,चीड़ तथा पाइन है|  छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है| पर्वतीय  वन
कटीले वन   जिन प्रदेशों में 20 इंच से कम वर्षा होती है| वनों को वहां पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिलता| अतः वृक्ष के स्थान कटीली झाड़ियां पैदा हो जाती हैं इस प्रकार के वन पंजाब व हरियाणा में पाए जाते हैं|  छात्र ध्यान पूर्वक सुन व समझ रहे हैं| कटीले वन
डेल्टाई वन  गंगा के डेल्टाई में सुंदरी नामक वृक्ष बड़ी संख्या में पाया जाता है इस प्रकार के वन बंगाल उत्तर तट नदियों के डेल्टाओं में पाए जाते हैं|

पर्वतीय वन कौन-कौन से हैं?

 छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं| डेल्टाई वन
वनों के लाभ   वनों से हमें अनेक प्रकार की जड़ी बूटियां मिलती हैं जिससे हम विभिन्न प्रकार की औषधियों को बनाते हैं| वनों के लाभ
 ईंधन   वनों से लकड़ी जलाने के लिए ईंधन मिलता है|  छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे है|  
खाद  वनों के पत्ते झड़कर मिट्टी में मिल जाते हैं जिससे उत्तम खाद का निर्माण होता है|  

 सामान्यीकरण  ऐसा  सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका द्वारा किया जाता है कि विद्यार्थियों को वनों के प्रकार के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति

  1. भारत में कितने प्रकार के वन पाए जाते हैं?
  2. वन वर्षा लाने में किस प्रकार सहायक है ?
  3. पर्वतीय वन कौन-कौन से हैं ?

गृहकार्य –  वनों के लाभ अथवा महत्व के बारे में सम्पूर्ण जानकारी इकट्ठी करके लाओ|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here