Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi : विदेशी व्यापार पर लेसन प्लान

0
33

Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi : विदेशी व्यापार पर लेसन प्लान

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप, आशा है आप अच्छे होंगे दोस्तों अगर आपने Economics का Lesson Plan On Foreign Trade बनाना चाहते हैं | तो आप हमारी वेबसाइट Bedlessonplan.Com पर विजिट कर सकते है क्योंकि अभी तक हम आपके साथ हर सब्जेक्ट के Lesson Plan शेयर कर चुके हैं | हम आपके साथ का इंपॉर्टेंट Lesson Plan Videshi Vyapar शेयर कर रहे हैं दोस्तों हमारी वेबसाइट B.Ed, Deled और सभी Teachers Traning course Avilable हैं तो आप सही जगह आए हैं यहां आपको विभिन्न Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan दे रहे है| वे student Foreign Trade का Lesson Plan In Hindi में बना सकते है| जो आपके लिए बहुत useful है| 

विदेशी व्यापार अंतरराष्ट्रीय सीमाओं या क्षेत्रों में पूंजी, वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान है। कई देशों में, यह सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के एक महत्वपूर्ण हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है। औद्योगीकरण, उन्नत परिवहन, वैश्वीकरण, बहुराष्ट्रीय निगम और आउटसोर्सिंग सभी का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रणाली पर बड़ा प्रभाव पड़ रहा है।वैश्वीकरण की निरंतरता के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार बढ़ाना महत्वपूर्ण है। विश्व शक्ति माने जाने वाले किसी भी राष्ट्र के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आर्थिक राजस्व का एक प्रमुख स्रोत है।

विदेशी व्यापार राष्ट्रीय सीमाओं पर माल का आदान-प्रदान है। प्रो. जे.एल. हैनसन ने कहा, “संबंधित देशों के बीच प्रदान की जाने वाली विभिन्न विशिष्ट वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान को विदेशी व्यापार के रूप में जाना जाता है।”विदेश व्यापार, सिद्धांत रूप में, घरेलू व्यापार से अलग नहीं है क्योंकि व्यापार में शामिल पक्षों की प्रेरणा और व्यवहार मौलिक रूप से इस पर निर्भर करता है कि कोई व्यापार सीमा पार है या नहीं। मुख्य अंतर यह है कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आमतौर पर घरेलू व्यापार की तुलना में अधिक महंगा होता है। इसका कारण यह है कि एक सीमा आम तौर पर अतिरिक्त लागतें लगाती है जैसे कि टैरिफ, सीमा में देरी के कारण समय की लागत, और देश के अंतर से जुड़ी लागत जैसे कि भाषा, कानूनी प्रणाली, या एक अलग संस्कृति। विदेशी व्यापार आयात और निर्यात के बारे में है। राष्ट्रों के बीच किसी भी विदेशी व्यापार की सबसे जरुरी चीज वे उत्पाद और सेवाएँ होती हैं जिनका व्यापार किसी विशेष देश की सीमाओं के बाहर किसी अन्य स्थान पर किया जाता है।

विदेशी व्यापार के प्रकार –

  • आयात ( Import )
  • निर्यात  ( Export )
  • पुन: निर्यात ( Re-export )

विदेश व्यापार की विशेषताएं 

  • हमारे देश का विदेश व्यापार उच्च मांग और कम आपूर्ति के कारण आयात पर निर्भर करता है |
  • पूंजीगत सामान और औद्योगिक सामान आयात करें |
  • रेडीमेड गारमेंट्स (आरएमजी), आरएमजी और निटवेअर का निर्यात 74% निर्यात,
  • कृषि कच्चे माल और उत्पादों का निर्यात
  • प्रतिकूल भुगतान संतुलन (अधिक आयात लेकिन कम निर्यात)
  • अधिकांश व्यवसाय समुद्र/महासागर द्वारा संचालित करें |
  • जूट और जूट के सामानों का निर्यात,
  • जनशक्ति का निर्यात,
  • निजी पहल,

विषय वस्तु विश्लेषण

  • विदेशी व्यापार का अर्थ
  • विदेशी व्यापार का महत्व

 सामान्य उद्देश्य  –

  • छात्रों की रचनात्मकता विकास करना |
  • छात्रों की अर्थव्यवस्था में रुचि उत्पन्न करना |
  • छात्रों की तरफ शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की कल्पना शक्ति का विकास करना |

 विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञानछात्रों को यह बताना कि विदेशी व्यापार क्या है और इसका अर्थ क्या है |

बोध छात्रों को यह समझाना कि विदेशी व्यापार का महत्व क्या है |

प्रयोगात्मक उन्हें विदेशी व्यापार से प्राप्त मुद्रा का हमारे देश के लिए क्या महत्व है |

 कौशलात्मक उद्देश्य –  छात्रों विदेशी व्यापार  के बारे में बताना ताकि वे इस पर अपना तर्क दे सकें |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमें विदेशी व्यापार के बारे में बताया गया हो |
  • पूर्व ज्ञान  बच्चों के विदेशी व्यापार से संबंधित पूर्व ज्ञान |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये छात्र क्रियाये
व्यापार से आप क्या समझते हैं ? वस्तुओं का क्रय विक्रय
विदेशी व्यापार का क्या अर्थ है ? देश से बाहर से वस्तुओं का क्रय विक्रय
किस प्रकार की वस्तुओं का क्रय विक्रय होता है ? समस्यात्मक

 

 उद्घोषणा –  आज हम आपको विदेशी व्यापार के विषय में बताएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण छात्र अध्यापक क्रियाएं छात्र क्रियाएं घटक  
विदेशी व्यापार का अर्थ  वस्तुओं के क्रय और विक्रय की प्रक्रिया को व्यापार कहा जाता है| कोई भी देश अपने निवासियों की आवश्यकता पूरी करने के लिए सारी वस्तुएं पैदा नहीं कर सकता | ऐसी वस्तु की पैदावार देश में मांग के संबंध में कम होती है| ऐसी वस्तुएं दूसरे देशों से खरीदी जाती है इसके विपरीत जिन वस्तुओं का उत्पादन देश में आवश्यकता से अधिक होता है | उनको दूसरे देशों में बिक्री के लिए भेजा जाता है | इस प्रकार वस्तुओं का आयात और निर्यात की प्रक्रिया को विदेशी व्यापार कहा जाता है|  
विदेशी व्यापार का महत्व विदेशी व्यापार का महत्व निम्न प्रकार से है –  
प्राकृतिक साधनों का प्रयोग विदेशी व्यापार प्राप्ति साधनों का उचित प्रयोग करने के सहायक सिद्ध होते हैं, क्योंकि उत्पादन में वृद्धि के लिए साधनों के उचित प्रयोग पर बल दिया जाता है |    
विदेशी मुद्रा की प्राप्ति देश के निर्यात में वृद्धि होने से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है | जिसका प्रयोग आधुनिक तकनीकी और मशीनें आयात करने के लिए किया जाता है|    
रोजगार तथा आय में वृद्धि   विदेशी व्यापार का रोजगार और आय का अच्छा प्रभाव होता है क्योंकि निर्यात की जाने वाली वस्तुओं के उत्पादन मंडी करण आदि क्रियाओं से लाखों श्रमिकों को रोजगार प्राप्त होता है |  
व्यापारिक संबंध विदेशी व्यापार से संबंधित देश के दूसरे देशों से व्यापारिक संबंध स्थापित होने से राजनीतिक संस्कृति तथा आर्थिक संबंधों का विकास होता है |    
आर्थिक संकट में सहायक आर्थिक संकट के समय विदेशों से अनाज दवाइयां कपड़े तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं का आयात किया जाता है ताकि देश में लोगों की आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके |  
आर्थिक विकास में सहायक देश के आर्थिक विकास के लिए विशेषज्ञों की सेवाएं प्राप्त ताकि कृषि औद्योगिक और सेवाओं के क्षेत्रों में आधुनिक तकनीकी तथा सुधरे हुए ढंगों का प्रयोग किया जाता है |    
औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि देश में औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि करने के लिए आधुनिक मशीनों का आयात किया जाता है |    

 

मूल्यांकन

  • व्यापार क्या है विदेशी व्यापार से आप क्या समझते हैं ?
  • विदेशी व्यापार का क्या महत्व है ?

गृह कार्य –

  • व्यापार से आप क्या समझते हैं तथा विदेशी व्यापार से आप क्या समझते हैं ?
  • विदेशी व्यापार का हमारे देश के विकास में क्या महत्व है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here